भगवान

पंचमुखी हनुमानजी (Panchmukhi Hanuman)

पंचमुखी हनुमानजी (Panchmukhi Hanuman) हनुमानजी की पूजा पंचमुखी रूप में भी होती है, लेकिन बजरंबली ने इस रूप को धारण क्यों किया था? मान्यता है कि जब मनुष्य चारों तरफ से संकट से घिर जाए या उसे अपने संकट से निकलने का कोई रास्ता ना सूझ रहा हो तो पंचमुखी हनुमान के शरण में उसे आना चाहिए। पंचमुखी हनुमान की पूजा से मारक ग्रह के स

खाटू श्याम (Khatu Shyam)

खाटू श्याम (Baba Khatu Shyam) राजस्थान के सीकर जिले में श्री खाटू श्याम जी का सुप्रसिद्ध मंदिर है। वे  कौन थे, उनके जन्म और जीवन चरित्र के बारे में जानते हैं इस लेख में। खाटू श्याम जी (Khatu Shyam) का असली नाम बर्बरीक (Barbarika) है। खाटू श्याम जी घटोत्कच और नागकन्या मौरवी के पुत्र हैं। पांचों पांडवों में सर्वाधिक बलशाली भीम और

नवदुर्गा (Navadurga)

नवदुर्गा (NavaDurga) माता शैलपुत्री (Mata Shailputri)  देवी दुर्गा के नौ रूप (Devi Maa Duraga ke Roop) में पहले स्वरूप में शैलपुत्री माता (Shailputri Mata) जानी जाती हैं। सती (Devi Sati) ने योगाग्नि द्वारा अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। इस बार वे 'शैलपुत्री' नाम से विख्यात हुर्ईं। पर्वतराज

विश्वकर्मा भगवान् (Lord Vishwakarma)

भगवान् विश्वकर्मा (Lord Vishwakarma) आधुनिक युग में भी उपयोगी हैं विश्वकर्मा जी (Vishwakarma ji is useful even in modern era) विश्वकर्मा जयंती के आने पर शिल्पकार, वास्तुकार एवं दिव्य इंजीनियर के रूप में हम भगवान विश्वकर्मा को याद करते हैं लेकिन इस बात से हम अनभिज्ञ हैं कि आज दुनिया में जो कुछ भी आकर्षण देख रहे हैं, वो सब विश्वकर्मा जी और उनके

कुबेर (Bhagwan Kuber)

भगवान कुबेर (Bhagwan Kuber) भारतीय पौराणिक कथाओं में देवताओं का विशेष महत्व है। ये देवता धर्म और समृद्धि के विभिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। ऐसे ही एक देवता है जिसका नाम धन के देवता (Dhan ke Devta) के रूप में प्रसिद्ध है, उन्हें भगवान कुबेर (Bhagwan Kuber) के नाम से जाना जाता है। कुबेर को हिंदू पौराणिक कथाओं में धन, समृद्धि,

कल्कि अवतार (Kalki Avatar)

कल्कि अवतार 10th Avatar of Lord Vishnu - The Avatar of Kalki हिंदू धर्म में, कल्कि अवतार को भगवान विष्णु (Lord Vishnu) का दसवां और अंतिम अवतार माना जाता है, जिनके बारे में कहा जाता है कि वे भविष्य में धर्म की रक्षा के लिए प्रकट होंगे। कल्कि अवतार की अवधारणा विभिन्न हिंदू धर्मग्रंथों में है, विशेष रूप से कल्कि पुराण (Kalki Puran) में, जो अवतार के उद्देश

सूर्य देव (Surya Dev) 

सूर्य देव (Surya Dev)  सूर्य देव (Bhawan Surya) भारतीय पौराणिक कथाओं में प्रमुख देवता हैं, जो जीवन के लिए उजाला और ऊष्मा प्रदान करते हैं। सूर्य देव को सबसे प्रमुख और प्रभावशाली देवता माना जाता है, जिनकी पूजा और उपासना से भक्तों को स्वास्थ्य, धन, समृद्धि, और सफलता की प्राप्ति होती है। ज्योतिषी बताते हैं कि नवग्रहों में सू

माँ सीता (Maa Sita)

माँ सीता (Maa Sita) Goddess Sita माँ सीता (Maa Sita), जिन्हें सीता देवी या जानकी के नाम से भी जाना जाता है, उन्हें देवी लक्ष्मी (Devi Lakshmi) का अवतार माना जाता है। वह हिंदू धार्मिक ग्रंथ रामायण में एक महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं, जहां उन्हें आदर्श पत्नी, समर्पित साथी, पवित्रता और धार्मिकता के प्रतीक के रूप में चित्रित किया गया है। यह ल

देवी सरस्वती (Mata Saraswati)

देवी सरस्वती: ज्ञान, कला और बुद्धि की देवी Maa Saraswati - Goddess of knowledge, art and wisdom हिंदू पौराणिक कथाओं में, देवी सरस्वती (Devi Saraswati) को ज्ञान, कला, संगीत और बुद्धि की देवी के रूप में पूजा जाता है। उन्हें सबसे महत्वपूर्ण और प्रिय देवताओं में से एक माना जाता है, जो रचनात्मकता और बुद्धि के प्रवाह का प्रतिनिधित्व करते हैं। देवी सरस

गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

गौतम बुद्ध (Gautam Buddha) बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध (Gautam Buddha), बौद्ध धर्म और हिंदू धर्म दोनों में एक अद्वितीय स्थान रखते हैं। बुद्ध की शिक्षाओं और उनके व्यक्तित्व ने बौद्ध धर्म के साथ-साथ हिंदू धर्म के विभिन्न पहलुओं को भी प्रभावित किया है। जिससे उन्हें हिंदू परंपराओं में भी एक श्रद्धेय व्यक्ति के रूप में म

1 2 3

फ्री में अपने आर्टिकल पब्लिश करने के लिए पूरब-पश्चिम से जुड़ें।

Sign Up