धनतेरस (Dhanteras)

auspicious feet image

धनतेरस (Dhanteras)

दीपावली से दो दिन पूर्व कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस (Dhanteras) का पर्व मनाया जाता है। समुद्र मंथन के दौरान कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को भगवान धन्वन्तरि (Bhagwan Dhanvantari) अमृत का स्वर्णकलश लेकर प्रकट हुए थे। इसलिए  इस दिन धनतेरस (Dhanteras) के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि इस दिन कोई वस्तु खरीदने से उसका तेरह गुणा लाभ मिलता है। इसलिये लोग इस दिन सोना-चांदी आदि कीमती वस्तुएं खरीदते हैं। इसके अलावा यह भी मान्यता है कि भगवान धन्वन्तरि (Lord Dhanvantari) स्वर्ण कलश लेकर प्रकट हुए थे। इसलिए इस दिन धातु का खरीदना शुभ होता है। 

धनतेरस पर किस-किस देवता की होती है पूजा? (Which gods are worshiped on Dhanteras?)

धनतेरस के दिन धन-धान्य, वैभव-ऐश्वर्य प्राप्त करने के लिए भगवान धन्वन्तरि (Bhagwan Dhanvantari), मां लक्ष्मी (Maa Laxmi) और कुबेर (Bhagwan Kuber) की पूजा होती है। इसके अलावा इसी दिन दक्षिण दिखा में यम (Yam) के नाम का एक दीपक अवश्य जलाया जाता है। ऐसा करने वाले परिवार के सभी व्यक्ति अकाल मृत्यु से मुक्त हो जाते हैं। इस बारे में एक कथा भी है कि एक समय में एक राजा हेम (Raja Hem) थे। उनका एक पुत्र था।  राज्य के ज्योतिषियों ने राजकुमार की कुंडली का अध्ययन करके राजा को बताया कि राजकुमार के विवाह के चार दिन बाद ही उसकी मृत्यु हो जायेगी। इस डर से राजा ने ऐसी जगह राजकुमार को भेज दिया जहां पर किसी स्त्री की परछाई तक न पड़े।

किन्तु एक राजकुमारी राजकुमार को भा गयी और उन्होंने उससे गंधर्व विवाह कर लिया। इसके बाद समय पर यमदूत राजकुमार के प्राण लेने आए और प्राण लेकर जाने लगे तो राजकुमारी ने करुण क्रंदन करते हुए विलाप किया। इससे यमदूतों में से एक दूत पिघल गया और उसने यमराज से पूछा कि क्या अकाल मृत्यु से बचने का कोई उपाय है। तो यमराज ने कहा कि धनतेरस (Dhanteras) के दिन घर के दक्षिण दिशा में जो भी यम के नाम का दीपक जलायेगा वह अकाल मृत्यु से मुक्त हो जायेगा। तब से यह दीप जलाया जाता है। भगवान धन्वन्तरि (Bhagwan Dhanvantari) धन के अलावा स्वास्थ्य के भी भगवान हैं। इसलिये इस दिन चिकित्सक भी धनतेरस (Dhanteras) को पूर्ण श्रद्धा-आस्था से मनाते हैं।  

इस वर्ष कब है धनतेरस का पर्व (When is the festival of Dhanteras this year 2024?)

वैदिक पंचांगों के अनुसार वर्ष 2024 में धनतेरस (Dhanteras) का पर्व 29 अक्टूबर को होगा। इसी दिन शाम को प्रदोषकाल में पूजा की जायेगी। 

धनतेरस पर पूजा कैसे करें? (How to perform puja on Dhanteras?)

धनतेरस के दिन शाम के समय उत्तर की दिशा में भगवान धन्वंतरि (Bhagwan Dhanvantari), कुबेर (Lord Kuber) और माता लक्ष्मी (Mata Laxmi) की मूर्ति स्थापित करें। दीप प्रज्वलित कर विधिविधान से पूजा करें। सबसे पहले सभी देवी-देवताओं का जल से स्रान करायें, वस्त्र पहनायें। इसके बाद तिलक लगायें। फिर धूप, दीप, पुष्प, फल आदि चीजें भेंट करें। कुबेर देवता (Kuber Devta) को सफेद रंग की मिठाई और भगवान धन्वंतरि देव को पीले रंग की मिठाई का भोग लगायें। पूजा के दौरान कुबेर और धन्वंतरि देव के मंत्र (Ghanvantari Dev ke Mantra) का उच्चारण करें। इसके बाद आरती (Aarti) करें। 

धनतेरस से जुड़े प्रश्न और उत्तर 

प्रश्न: धनतेरस के दिन किन-किन परंपरागत उपायों का पालन किया जाता है?

उत्तर: धनतेरस के दिन लोग घर को सजाकर साफ करते हैं, धन्य और वास्तुओं को साफ करते हैं, और लक्ष्मी और कुबेर की कृपा के लिए उन्हें समर्पित करते हैं।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार की रस्में आयोजित की जाती हैं?

उत्तर: धनतेरस के दिन कुछ लोग नये सोने या चांदी के आभूषण खरीदते हैं और उन्हें पहनते हैं। कुछ लोग घर को रंगों से सजाते हैं और लक्ष्मी के आगमन के लिए उसे सजाते हैं।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार की मिठाईयाँ और विशेष भोजन बनाए जाते हैं?

उत्तर: धनतेरस के दिन लोग मिठाईयों जैसे की गुड़ की मिठाई, पेड़े, लडडू, बर्फी आदि बनाते हैं। कुछ विशेष भोजन भी बनाये जाते हैं जैसे की हलवा, पूरी, कढ़ी पकोड़े आदि।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार का समाजिक समारोह आयोजित किया जाता है?

उत्तर: धनतेरस के दिन कई स्थानों पर लोग समाजिक समारोह आयोजित करते हैं, जिसमें संगीत समारोह, कवि सम्मेलन, और अन्य मनोरंजन कार्यक्रम शामिल होते हैं।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार के दान और उपवास किए जाते हैं?

उत्तर: धनतेरस के दिन लोग दान और उपवास का महत्वपूर्ण हिस्सा मानते हैं। वे धन और समृद्धि के लिए दान और पुण्य के लिए उपवास करते हैं।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार के धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं?

उत्तर: धनतेरस के दिन मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना के कार्यक्रम होते हैं, जिनमें भगवान धन्वन्तरि, माँ लक्ष्मी, और भगवान कुबेर की पूजा की जाती है।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार का व्रत रखा जाती है?

उत्तर: कुछ लोग धनतेरस के दिन निर्जला व्रत रखते हैं, जिसमें वे पूरे दिन भोजन का त्याग करते हैं और केवल पानी पीते हैं। यह व्रत धन और समृद्धि की प्राप्ति के लिए किया जाता है।

प्रश्न: धनतेरस के दिन किस प्रकार के मंत्रों का उच्चारण किया जाता है?

उत्तर: धनतेरस के दिन लोग विशेष मंत्रों का उच्चारण करते हैं, जैसे कि भगवान धन्वन्तरि और माँ लक्ष्मी के मंत्र। ये मंत्रों की शक्ति से धन, समृद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है।

पूरब पश्चिम विशेष

भगवान विष्णु   |   भगवान शिव   |   भगवान गणेश   |  भगवान श्री कृष्ण    |  ब्रह्म देव    |   गौतम बुद्ध 
  • Share:

0 Comments:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Format: 987-654-3210

फ्री में अपने आर्टिकल पब्लिश करने के लिए पूरब-पश्चिम से जुड़ें।

Sign Up