भगवान शिव की आरती (Bhagwan Shiv ki Aarti)

Shiv Aarti

भगवान शिव की आरती (Bhagwan Shiv ki Aarti)

सोमवार का दिन भगवान शिव (Bhagwan Shiv) का होता है, वो अलौकिक शक्ति हैं, भोले भंडारी हैं, उनकी उपासना मात्र से ही इंसान के सारे दुखों का अंत हो जाता है। इसलिए सोमवार सुबह का प्रारंभ शिवमंत्र और उनकी आरती से करना चाहिए, ऐसा करने से इंसान के सारे कष्टों का अंत हो जाता है और उसकी हर एक इच्छा पूरी होती है।

Shiv Aarti Lyrics

भगवान शिव की आरती (Shiv Aarti)

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

जय हो आपको, भगवान शिव! आप प्रणव मंत्र 'ॐ' के अवतार हैं; जय हो आपको, भगवान शिव!
श्री ब्रह्मा, श्री विष्णु, और शाश्वत श्री शिव का संयोजन अत्यधिक आनंद की अविस्मरणीय धारा प्रदान करता है; यह धरती पर आनेवाली समस्याओं को हमसे दूर कर देता है।
जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं।

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।
हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

आप महादेव, अन्तर्यामी भगवान हो, आपके पास एक मुख श्री विष्णु (Shri Vishnu Bhagwan) के रूप में है, चार मुख श्री ब्रह्मा (Shri Brahma) के रूप में है, और पांच मुख श्री शिव के रूप में है। श्री ब्रह्मा के रूप में आप हंस का आसन प्राथमिक रूप से प्राथमिक रूप से उपयोग करते हैं, श्री विष्णु के रूप में आप गरुड़ का उपयोग करते हैं, और श्री शिव के रूप में आप पवित्र नंदी पर बैठते हैं।

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं।

दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे ।
त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

आपके पास श्री ब्रह्मा के रूप में दो हाथ हैं, श्री विष्णु के रूप में चार हाथ हैं, और श्री शिव (दशबाहु) के रूप में दस हाथ हैं; इन हाथों का दृश्य शांतिपूर्ण है। तीनों रूपों का (श्री ब्रह्मा, श्री विष्णु और श्री शिव) दृश्य तीनों लोकों (भूमि - पृथ्वी, स्वर्ग - स्वर्ग और पाताल - पृथ्वी के नीचे) के निवासियों को पसंद है।

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं।

अक्षमाला वनमाला मुण्डमाला धारी ।
चंदन, मृदमग सोहें, भाले शशिधारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

आप एक रुद्राक्ष माला, एक जंगली फूलों की माला, और खोपड़ीयों की माला पहने हुए हैं। आपके माथे पर चंदन और मुश्क लगी हुई है, और युवा चाँद के प्रकाश में वे चमक रहे हैं।

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार

श्वेताम्बर, पीताम्बर, बाघाम्बर अंगें ।
सनकादिक, ब्रम्हादिक, भूतादिक संगें ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

आप अपने शरीर पर पवित्र विभूति लगाते हैं, आप पवित्र पीले वस्त्र पहनते हैं, और आप बाघ की त्वचा भी पहनते हैं। सभी ऋषियों, देवताओं, ब्रह्मा और अन्य भौतिक जीवों के साथ आप हैं।

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं।

कर के मध्य कमड़ंल चक्र, त्रिशूल धरता ।
सुखकारी दुखहारी जगपालन कारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

आप एक हाथ में कमंडल धारण करते हैं जिसमें पवित्र जल होता है, और दूसरे हाथ में त्रिशूल धारण करते हैं। आप हमें खुशी देते हैं, हमारा दुख हरते हैं और दुनिया की सुरक्षा करते हैं।

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं।

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर में शोभित ये तीनों एका ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

हमेशा तात्पर्यवादी विचार वाले व्यक्ति सोचते हैं कि श्री ब्रह्मा, श्री विष्णु, और श्री शिव तीन अलग-अलग देवताएँ हैं। हालांकि, आप केवल एक ही रूप में प्रणव मंत्र 'ॐ' में मौजूद हैं।

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं।

त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ नर गावे ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख संपति पावे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

स्वामी शिवानंद कहते हैं, "जो इस आरती को तीन गुणों - सत्त्व (भलाई), रजस (साहस) और तमस (शांति) के भगवान के प्रति पढ़ते हैं, उनकी इच्छाएँ पूरी होती हैं।"

जय हो आपकी, भगवान शिव! आप "ॐ" के अवतार हैं। श्री शिव आरती दिखाती है कि भगवान शिव सर्वदेवताओं के सारे रूपों का समापन है, और भगवान शिव सबसे अंतिम हैं।

भगवान शिव की आरती से जुड़े रोचक प्रश्न और उत्तर

प्रश्न: भगवान शिव की कौन-कौन सी आरतियाँ हैं और उनका महत्व क्या है?

उत्तर: भगवान शिव की कुछ प्रमुख आरतियाँ हैं जैसे "शिव आरती", "भोलेनाथ की आरती", "श्री शिव जी की आरती" आदि। इन आरतियों के पाठ से भक्त भगवान शिव की महिमा गाते हैं और उनकी पूजा-अर्चना करते हैं। यहाँ, इन आरतियों के पाठ के माध्यम से शिव भक्ति में दृढ़ता आती है और उन्हें आध्यात्मिक संवाद में समर्पित करते हैं।

प्रश्न: शिव आरती का पाठ क्यों और कैसे किया जाता है?

उत्तर: शिव आरती का पाठ भगवान शिव की पूजा के दौरान किया जाता है। इस आरती के माध्यम से भगवान शिव की महिमा गाई जाती है और उनके प्रति भक्ति प्रकट की जाती है। आरती के दौरान भक्त दीपक को घूमते हुए प्रार्थनाएं करते हैं और पूजा का समापन करते हैं।

प्रश्न: सोमवार का दिन किस देवता का होता है और उनकी उपासना का क्या महत्व है?

उत्तर: सोमवार का दिन भगवान शिव का होता है। भगवान शिव को समर्पित उपासना मात्र से ही इंसान के सारे दुखों का अंत हो जाता है और उसकी हर एक इच्छा पूरी होती है।

प्रश्न: शिव आरती में किस रूप में भगवान शिव का वर्णन किया गया है?

उत्तर: शिव आरती में भगवान शिव को एकानन, चतुरानन, पंचानन, और दसभुज रूप में वर्णन किया गया है। उनके अलग-अलग रूपों का वर्णन करके उनके अलग-अलग गुणों और महत्व का मानव समाज में ज्ञान दिया जाता है।

प्रश्न: शिव आरती का पाठ करने के क्या लाभ हैं?

उत्तर: शिव आरती का पाठ करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्ति होती है, जिससे भक्त के सभी कष्ट दूर होते हैं और उसकी सभी इच्छाएँ पूरी होती हैं। इसके अलावा, शिव आरती का पाठ करने से मानसिक शांति और आत्मिक संवाद में स्थिरता मिलती है।

प्रश्न: भगवान शिव का नाम किसे अलंकृत करता है और कैसे?

उत्तर: भगवान शिव अपने शरीर पर रुद्राक्ष माला, जंगली फूलों की माला, और खोपड़ीयों की माला पहनते हैं। उनके माथे पर चंदन और मुश्क लगी होती है, जो उनके आलौकिक स्वरूप को और भी प्रकाशमान बनाता है।

प्रश्न: भगवान शिव की आरती में श्लोकों का क्या महत्व है?

उत्तर: भगवान शिव की आरती में श्लोकों का पाठ करने से भक्त उनके गुणों का गान करते हैं और उनके आशीर्वाद की प्राप्ति के लिए प्रार्थना करते हैं। इसके अलावा, शिव आरती का पाठ भक्त को मानसिक और आत्मिक शांति प्रदान करता है और उसे आध्यात्मिक उद्धारण की दिशा में ले जाता है।

प्रश्न: भगवान शिव की आरती में किस चीज़ का उल्लेख किया गया है जो भक्तों को सुख और समृद्धि प्रदान करता है?

उत्तर: भगवान शिव की आरती में उनकी कृपा के प्रभाव से भक्तों को सुख और समृद्धि मिलती है। श्री शिवानंद स्वामी कहते हैं कि जो इस आरती को पढ़ते हैं, उन्हें सुख संपत्ति की प्राप्ति होती है।

  • Share:

0 Comments:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Format: 987-654-3210

फ्री में अपने आर्टिकल पब्लिश करने के लिए पूरब-पश्चिम से जुड़ें।

Sign Up