महा मृत्युंजय हवन पूजा  (Maha Mrityunjay Havan Pooja)

Maha Mrityunjay Havan

महा मृत्युंजय हवन पूजा  (Maha Mrityunjay Havan Puja)

महा मृत्युंजय हवन पूजा (Havan Puja) लंबे स्वस्थ जीवन और लंबी बीमारी से निजात पाने के लिए की जाती है। महा मृत्युंजय जाप (Mahamrityunjay Jaap) और हवन पूजा (Havan Pooja) मृत्युशैया पर लेटे व्यक्ति को जीवनदान दे सकती है।

महा मृत्युंजय मंत्र (Mahamrityunjay Mantra)

।।ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् । 
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्।।

महा मृत्युंजय मंत्र हवन और पूजा विधि (Mahamrityunjay Mantra Havan and Worship Method)

महामृत्युंजय मंत्र हवन (Mahamrityunjaya Mantra Havan) से पहले महा मृत्युंजय जाप किया जाता है। सबसे पहले जाप माला से भगवान शिव (Bhagwan Shiv) के महामृत्युंजय जाप मंत्र का 108 बार जाप करे, फिर शिवलिंग पर पहले फूल चढ़ाएं फिर दूध व जल से अभिषेक करे और फिर संकल्प करे (एक बर्तन में पानी डालें और भगवान शिव का आशीर्वाद माँगे)। महामृत्युंजय जाप पूजा के अंत में हवन किया जाता है। हवन के दौरान भी महामृत्युंजय मंत्र का जाप किया जाता है। भगवान शिव (Lord Shiva) का आह्वान करके हवन कुंड में अग्नि प्रज्वलित करके, भोलेनाथ का अभिषेक, पूजन, अर्चना की जाती है और स्वाहा बोलते हुए आहुतियां दी जाती है। पूर्णाहुति के साथ हवन संपन्न करके अंत में भगवान भोलेनाथ (Bhagwan Bholenath) को भोग लगाया जाता है।

महा मृत्युंजय मंत्र का जाप और हवन (Chanting of Mahamrityunjay Mantra)

श्री महामृत्युंजय मंत्र वह मंत्र है जो व्यक्ति की ओर आने वाली मृत्यु पर भी विजय प्राप्त कर सकता है इसलिए महामृत्युंजय पूजा उस व्यक्ति के लिए की जाती है जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हो।

महामृत्युंजय मंत्र का जाप रुद्राक्ष की माला से किया जाता है। संकट की स्थिति में शिवलिंग (Shivling) के सामने या भगवान शिव की मूर्ति के सामने रूद्र (Rudra) की माला से इस मंत्र का जाप और हवन करना बहुत फलदायी होता है।

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कम से कम 108 बार और अधिकतम सवा लाख बार किया जाना चाहिए। जप करने वाले व्यक्ति को एक बार में एक माला, 108 जाप पूरे करने चाहिए। इसके बाद सुमेरु से माला पलटकर पुनः जाप आरंभ करना चाहिए। किसी भी परिस्थिति में माला का सुमेरु लांघना नहीं चाहिए।

सावन शिव जी का प्रिय महीना है और महा मृत्युंजय मंत्र भोलेनाथ को प्रसन्न करने का आसान तरीका है इसलिए सावन में इस मंत्र का जाप और हवन जरूर करना चाहिए। सावन में इसका जप और हवन करने से मनचाहा वरदान प्राप्त होता है।

महा मृत्युंजय हवन और मंत्र जाप हमेशा शुभ मुहूर्त जैसे महाशिवरात्रि, श्रावणी सोमवार, प्रदोष या कृष्ण पक्ष के सोमवार से शुरू करने चाहिए।

महामृत्युंजय हवन के लिए जरूरी सामग्री (Ingredients needed for Maha Mrityunjaya Havan)

सुपारी, लौंग, रोली, चावल, चंदन, हल्दी पाउडर, हल्दी की गांठ, धूप, कपूर, घी, बत्ती (गोल), बत्ती (लंबी), दीपक, अगरबत्ती, केसर, पंच मेवा, इलायची, गंगा जल, शहद, मिठाई, तेल, पीली सरसों, हनुमान सिन्दूर, अष्टगंध, पान का पत्ता, आम की पत्तियां, पंचामृत, नारियल, फूल, तुलसी की पत्तियां, बेल पत्र, धतूरा फल और फूल, आक का फूल, शिव लिंग, हवन सामग्री (Havan Samagri) और हवन कुंड (Havan Kund)।

महा मृत्युंजय हवन का महत्त्व (Significance of Maha Mrityunjay Havan)

आपके जीवन के सभी बुरे प्रभावों को खत्म कर देता है।

अस्वस्थ व्यक्ति के स्वास्थ्य में सुधार करता है।

यह आपके और आपके परिवार के चारों ओर सुरक्षा कवच की तरह कार्य करता है।

आपके पारिवारिक जीवन में खुशियाँ लाता है।

ना केवल इस जीवन बल्कि अतीत से जुड़े हुए सभी पापों को भी समाप्त कर देता है।

यह पूजा अनेक दोषों जैसे नाड़ी दोष, भकूट दोष आदि दोषों को दूर करने के लिए की जाती है। 

भगवान शिव (Bhagwan Shiv) अपने महाकाल रूप में श्री महामृत्युंजय मंत्र के देवता (Maha Mrityunjay Mantra ke Devta) है जो हर जीवित प्राणी की मृत्यु को नियंत्रित करते है। जातक अप्राकृतिक या अकाल मृत्यु से बचने के लिए महा मृत्युंजय हवन पूजा (Maha Mrityunjay Havan Pooja) करते है। 

जो व्यक्ति नकारात्मक घटनाओं से डरता है, डर से हार जाता है, उसे अपने डर और भय से जीतने के लिए महामृत्युंजय हवन पूजा (Maha Mrityunjay Havan Pooja) जरूर करनी चाहिए। यज्ञ हवन (Yagya Havan) ना केवल आपके मन को बल्कि आपकी आत्मा को भी असीम शांति देते है। 

पूरब पश्चिम विशेष -

Hanuman Chalisa  |   Shiv Chalisa   |   Hanuman Ji   |  Ganesh Chalisa  |   Ganesh Aarti

Lakshmi Aarti   |   Hanuman Aarti   |   Vishnu Chalisa   |   Gayatri Mantra   |   Ram Ji 

Bhagwan Vishnu   |   Saraswati Chalisa   |   Maa Kali   |   Shani Aarti   |  Durga Mata   

  • Share:

0 Comments:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Format: 987-654-3210

फ्री में अपने आर्टिकल पब्लिश करने के लिए पूरब-पश्चिम से जुड़ें।

Sign Up